लालकिला मैदान में रावण दहन का आयोजन, रावण प्रवृत्ति को करें- प्रधानमंत्री

नयी दिल्ली :

दिल्ली के लालकिला मैदान में दशहरा के मौके पर रावण दहन का आयोजन किया गया है. इस कार्यक्रम में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू एवं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह मौजूद हैं. इनके अलावा कई अन्य अहम अतिथि भी कार्यक्रम में शामिल हुए हैं. रावण दहन की प्रक्रिया आरंभ किये जाने से पूर्व भगवान राम, लक्ष्मण एवं माता सीता की पूजा की प्रक्रिया पूरी की गयी. राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री ने इनका तिलक भी किया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रभु राम के सम्मान में जय श्री राम के नारे भी लगाये.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस दौरान अपने संक्षिप्त संबोधन में कहा कि हमारे उत्सव सामाजिक शिक्षा का माध्यम हैं. हमारे उत्सव खेत-खलिहान, नदी पर्वतों, इतिहास एवं सांस्कृतिक परंपरा से जुड़े हुए हैं. हजारों साल हो गये लेकिन प्रभु राम का जीवन आज भी समाज को प्रेरणा देता है. उन्होंने कहा कि नवरात्रि के पावन पर्व के बाद विजयादशमी के मौके पर रावण दहन की प्रक्रिया रावण प्रवृत्ति काे नष्ट करने के लिए निरंतर प्रयास करने का संदेश देता हैं.

प्रधानमंत्री ने कहा कि ऐसे आयोजन सिर्फ उत्सव नहीं मकसद बनना चाहिए. कोई कल्पना कर सकता है कि अयोध्या से सिर्फ वस्त्र पहन कर निकले भगवान राम लंका पहुंचते-पहुंचते संगठन शक्ति के बल पर समाज जीवन के हर वर्ग का संघर्ष में साथ लेते हैं. हम भी नागरिक के नाते कुछ संकल्प लें, ताकि 2022 तक देश को महापुरुषों के स्वप्न के अनुरूप बना सकें. कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देशवासियों को दशहरा की शुभकामनाएं दीं. उन्होंने कहा कि राष्ट्र निर्माण में हर व्यक्ति अपना योगदान दें.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *