उत्तराखण्ड में किसानों का कर्ज माफ करने से सीएम ने किया इनकार, वजह भी बताई

रुड़की।

भाजपा किसान मोर्चा की प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में किसानों की उम्मीदों पर सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पानी फेर दिया। उन्होंने प्रदेश की अर्थव्यवस्था का हवाला देकर किसानों का कर्ज माफ करने से साफ इनकार कर दिया। सीएम ने कहा कि किसानों को सरकार सुविधा और बेहतर वातावरण देगी। सस्ती दर पर ऋण के साथ ही मोरल सपोर्ट भी दिया जाएगा, लेकिन ऋण माफ नहीं करेंगे।

भाजपा किसान मोर्चा की प्रदेश कार्यसमिति में पहुंचे सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि किसान स्वाभिमान के साथ जीना चाहता है। कर्ज वापस करना चाहता है। यदि सरकार कर्ज माफ करती तो लगभग 50 करोड़ का भार पड़ता। सरकार की आर्थिक स्थिति भी ठीक नहीं है। राज्य पर 11,000 करोड़ का कर्जा है। जबकि आय 17,000 करोड़ रुपये है। कर्जा माफ किया तो अर्थव्यवस्था चरमरा जाएगी। उन्होंने कांग्रेस सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि इन लोगों ने अपनी सरकार में यह मांग नहीं की। अब कर्जा माफी की मांग कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस किसानों को बरगला रही है।

किसानों को जागरूक करने का काम भाजपा किसान मोर्चा कार्यकर्ताओं को करना होगा। मोर्चा के कार्यकर्ताओं व पदाधिकारियों को किसानों की आवाज बनना होगा। उन्हें किसानों के बीच जाकर सरकार की योजनाएं और खेती की उन्नत तकनीक की जानकारी देनी होगी। इस मौके पर राज्यमंत्री रेखा आर्य, विधायक प्रदीप बत्रा, विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन, महामंत्री संगठन संजय कुमार, महामंत्री नरेश बंसल, प्रदेश अध्यक्ष किसान मोर्चा खिलेंद्र चौधरी, सुबोध राकेश, जिलाध्यक्ष डॉ. कल्पना सैनी, योगेंद्र पुंडीर, प्रदेश उपाध्यक्ष ऋषिपाल बालियान मंच पर मौजूद रहे।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *