शादी के गीतों के स्वर चीख-पुकार में बदल गए, हर ओर सिर्फ मातम

दोपहर 1 बजे के करीब शादी की शहनाइयां बज रही थीं। अचानक बिजली का ट्रांसफार्मर फट गया और खुशियां मातम में बदल गईं। चश्मदीदों के मुताबिक, शादी समारोह में गीतों की जगह अचानक महिलाओं की चीख-पुकार शुरू हो गई। महिलाओं के कपड़े जल गए और किसी के हाथ-पैर तो किसी का मुंह और किसी का पूरा शरीर गर्म ऑयल से झुलस गया। प्रेग्नेंट महिला के पेट में पल रहे बच्चे की मौत…

– धोलाराम गुर्जर ने बताया कि उसकी बड़ी भांजी तारा की मंगलवार को जयपुर के ढ़ाणी गुजरान में शादी थी। शादी से पहले दिन में भात(एक प्रथा) प्रोग्राम में लोग यहां आए थे।
– दुल्हन के घर से करीब 50 मीटर पहले भात लेकर आए लोगों का स्वागत हो रहा था। शादी समारोह में महिलाओं द्वारा गीत गाए जा रहे थे। इस दौरान पास ही बिजली के ट्रांसफार्मर में अचानक आग लग गई और वह फट गया।
– ट्रांसफार्मर में से गर्म तेल उछलकर महिलाओं और बच्चों पर जा गिरा। तीन की तो झुलसने से मौके पर ही मौत हो गई।
– गुर्जर ने बताया कि घटना के बाद पूरे इलाके में कोहराम मच गया। लोग चीखने-चिल्लाने लगे। झुलसे हुए जख्मियों लोगों को किसी तरह अस्पताल पहुंचाया गया। शादी का घर था, हर तरफ खुशी और उल्लास था और एक धमाके ने सबकी जिंदगी ही हिला दी। हादसे के बाद झुलसे हुए लोगों को इलाज के लिए एसएमएस हॉस्पिटल में भर्ती कराया।
– हादसे की चपेट में एक 9 महीने की प्रेग्नेंट महिला भी चपेट में आ गई। दुल्हन की चाची धोली देवी ट्रांसफार्मर के फटने से गर्म आॅयल से 80 फीसदी से ज्यादा झुलस गई। उसे इलाज के लिए एसएमएस हॉस्पिटल लाया गया।
– जहां पर डॉक्टर्स ने बच्चे और धोली को बचाने के लिए पहले ऑपरेशन करके डिलिवरी कराई, लेकिन बच्चे को बचाने में नाकामयाब रहे। डॉक्टर्स ने धोली को तो बचा लिया, लेकिन अभी भी उसकी हालत नाजुक बनी हुई है। हादसे के बाद अब तक पेट में पल रहे बच्चे समेत 11 लोगों की मौत हो चुकी है।
नहीं आई अलवर से बरात
हादसे के बाद शादी की खुशियां मातम में बदल गई। घर में कोहराम मच गया। पूरे गांव में मातम छा गया। अलवर जिले के प्रतापगढ़ कस्बे की चौसला गांव से बरात भी नहीं आई।
सीएम ने दिए मामले की जांच के आदेश
– मामले की खबर लगने पर जयपुर पुलिस कमिश्नर संजय अग्रवाल टीम के साथ हॉस्पिटल पहुंचे। इस दौरान उन्होंने घायलों को हॉस्पिटल तक पहुंचाने के लिए ट्रैफिक के खास इंतजाम किए।
– साथ ही सीएम वसुंधरा राजे, हेल्थ मिनिस्टर कालीचरण सराफ, एनर्जी मिनिस्टर पुष्पेन्द्र सिंह, एमएलए राव राजेन्द्र सिंह समेत दूयरे बीजेपी नेता भी हॉस्पिटल पहुंचे। जहां पर जख्मियों से मुलाकात की और अफसरों से घटना की जानकारी ली। इस दौरान सीएम राजे ने एक कमेटी बनाकर मामले की जांच के आदेश भी दिए हैं।
10 लाख का मुआवजा मिलेगा
लोगों ने मृतकों के परिजनों को नौकरी, 20 लाख मुआवजा और जख्मियों को 5 लाख रु. मुआवजा देने समेत दोषी कर्मचारियों को सस्पेंड करने की मांग को लेकर धरना दिया। कलेक्टर सिद्धार्थ महाजन ने मृतकों के परिजनों को 10 लाख और दोषी कर्मचारियों पर कार्रवाई का आश्वासन देकर मामला शांत कराया।

एनर्जी मिनिस्टर पुष्पेन्द्र सिंह ने बताया कि अफसरों से चर्चा में सामने आया कि ढाणी गुजरान का ट्रांसफार्मर खराब था। मरम्मत के बाद इसे 25 अक्टूबर को ही लगाया गया था।
– उधर, जयपुर डिस्कॉम के एमडी आरजी गुप्ता ने कहा कि प्रदेश के 15 लाख ट्रांसफार्मर में 3% का जलना आम बात है। यह रेगुलर मेंटीनेंस और फीडर रिनोवेशन से जुड़ा मामला नहीं है। हम जांच कर रहे हैं और नियमानुसार – ट्रांसफार्मर बदल रहे हैं, इसका खर्च किसान से नहीं लिया जाएगा।
निगम के सूत्रों ने बताया कि ट्रांसफार्मर अधिक लोड या तेज गर्म होने पर ही फट सकता है, लेकिन इस ट्रांसफार्मर पर ज्यादा लोड भी नहीं था। 25 केवी के इस ट्रांसफार्मर से एक ही कृषि कनेक्शन दिया हुआ है।
दावा ये : लगातार कर रहे फीडर रिनोवेशन व मेंटिनेंस का काम
दीपावली से पहले ही डिस्कॉम के इंजीनियरों को सख्त निर्देश दिए गए थे कि वे ट्रांसफार्मरों का रेगुलर मेंटिनेंस करें। फीडर रिनोवेशन का काम भी कई महीने से चालू है। दीपावली पर बिजली केबलों, ट्रांसफार्मरों के स्पेशल मेंटिनेंस का दावा भी जयपुर डिस्कॉम ने किया है। इसके बावजूद हुई इस घटना ने इंजीनियरों के काम को लेकर लापरवाही को उजागर कर दिया। प्रदेश में करीब 15 लाख और जयपुर में 12 हजार ट्रांसफार्मर हैं।
शाहपुरा में ट्रांसफार्मर हादसे की जांच हो : पायलट
कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट ने शाहपुरा के खातोलाई में ट्रांसफार्मर के फटने से हुए हादसे में मारे गये 6 लोगों के प्रति गहरा शोक व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि यह हादसा बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है, इस संपूर्ण हादसे के पीछे रही लापरवाही की उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *