आखिरकार बिक गईं दाउद इब्राहिम की ये तीनों संपत्तियां, जानिए कौन है खरीददार

कुख्‍यात अंडरवर्ल्‍ड सरगना दाऊद इब्राहिम एक बार फिर चर्चा में है. उसकी तीन और प्रॉपर्टीज नीलाम हो चुकी हैं. ऐसे में इन प्रॉपर्टीज के साथ ही उन लोगों पर भी लोगों की निगाहें हैं, जो इन्‍हें खरीदने के लिए आगे आए हैं, क्‍योंकि पिछली बार बोली लगाने वाला शख्‍स आखिरकार पीछे हट गया था. वित्‍त मंत्रालय स्‍मगलर्स एंड फॉरेन एक्‍सचैंज मैनिपुलेटर्स एक्‍ट, 1976 के तहत ऐसी प्रॉपर्टी की नीलामी करता है.

इन सम्‍पत्तियों की हो रही नीलामी
दाऊद की जिन प्रॉपर्टीज की आज नीलामी हो गई हैं- होटल रौनक अफरोज जिसे दिल्‍ली जायका भी कहा जाता है, शबनम गेस्‍ट हाउस और डमरवाला बिल्डिंग के 6 कमरे. इस अवसर पर तीन अन्‍य प्रॉपर्टीज की नीलामी भी हो रही है, जिनमें मझगांव का एक फ्लैट, मोहम्‍मद अली रोड के दादरीवाला चाल से जुड़ा किराया अधिकार (टीनेंसी राइट्स) और औरंगाबाद में 600 वर्ग मीटर का एक फैक्‍ट्री प्‍लॉट शामिल हैं. हालांकि इन तीन प्रॉपर्टीज के संबंध उन लोगों से हैं जिन्‍होंने कस्‍टम ड्यूटी जमा नहीं की और गोल्‍ड स्‍मगलिंग के दोषी पाए गए हैं. सभी 6 प्रॉपर्टी की कुल रिजर्व प्राइस 5.54 करोड़ रुपए रखी गई है.

    • दाम्बरवाला बिल्डिंग, पाकमोडिया स्‍ट्रीट, मुंबई-  बेस प्राइस- 1 करोड़ 55 लाख और 76 हजार रुपए
    • होटल रौनक अफरोज, पाकमोडिया स्‍ट्रीट, मुंबई- बेस प्राइस- 1 करोड़ 18 लाख और 63 हजार रुपए
    • शबनम गेस्ट हाऊस, पाकमोडिया स्‍ट्रीट, मुंबई- बेस प्राइस- 1 करोड़ 21 लाख और 43 हजार रुपए

इन इलाकों में था दाऊद का दबदबा
दाऊद की अधिकांश प्रॉपर्टीज़ मुंबई के डोंगरी, मोहम्मद अली रोड और मझगांव इलाके में हैं. ये वे इलाके हैं, जहां कभी उसका दबदबा हुआ करता था. अपने अपराध जगत की शुरुआत भी दाऊद ने इन्ही इलाकों से की थी. माना यह भी जाता है कि बड़ी संख्‍या में उसकी प्रॉपर्टीज अन्‍य लोगों के नाम से हैं.

दो साल पहले भी नीलामी की हुई थी कोशिश
गौरतलब है कि दो साल पहले भी वित्त मंत्रालय ने दाऊद की 7 प्रॉपर्टीज़ की नीलामी शुरू की थी. उन प्रॉपर्टीज में दमन में कृषि जमीन, होटल रौनक अफ़रोज़, माटुंगा की महावीर बिल्डिंग का एक फ्लैट और एक कार शामिल थी.

रद्द हो गया था सौदा
दो साल पहले की उस नीलामी में होटल रौनक अफ़रोज़ पर सबसे बड़ी बोली लगाने वाली गैर सरकारी संस्था ‘देश सेवा समिति’ की तरफ से बोली कि पूरी रकम अदा नहीं की गई. देश सेवा समिति एस बालाकृष्‍णन का एनजीओ है. माना जाता है कि दाऊद की धमकी के कारण यह एनजीओ इससे पीछे हट गया था. हालांकि इस संस्था ने इस होटल के लिए 4.28 करोड़ की सबसे बड़ी बोली लगाई थी. उसने 30 लाख रुपये का बयाना इसके लिए दिया था, लेकिन बची हुई रकम देने में असमर्थता जताई थी.

एक लाख है कॉशन मनी
नीलामी प्रक्रिया में गंभीर लोग ही शामिल हों, इसे सुनिश्चित करने के लिए वित्‍त मंत्रालय ने नीलामी के लिए कॉशन मनी (जमानती रुपए) को 15000 रुपए से बढ़ाकर एक लाख रुपए कर दिया है. सरकार ने यह भी कहा है कि अगर किसी ने नीलामी प्रक्रिया में हंगाम मचाने की कोशिश की तो उसकी यह रकम जब्‍त कर ली जाएगी.

1993 सीरियल बम धमाकों का आरोपी
दाऊद 1993 के मुंबई सीरियल बम धमाकों का आरोपी है. उस पर हत्‍या, लूटपाट, हफ्तावसूली आदि के दर्जनों आरोप हैं.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *