भाजपा न होती तो ओमप्रकाश राजभर विधानसभा का दरवाजना न देख पाते: अनिल राजभर

राजभरों को बेचने वालों के दिन अब लद गये
संवाददाता
रसड़ा।

होमगार्ड विभाग के राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) अनिल राजभर ने सरकार के सहयोगी पार्टी भासपा नेता ओमप्रकाश राजभर पर जमकर भड़ास निकाला। उन्होंने कहा कि राजभरों को बेचने वालों के दिन अब लद गये हैं। भाजपा न होती तो वे विधानसभा का दरवाजा तक न देख पाते। भाजपा की देन है कि ओमप्रकाश राजभर पहली बार विधान सभा देख पाये हैं।


अनिल राजभर रसड़ा के गांधी पार्क में भाजपा प्रत्याशी के समर्थन में एक जनसभा को सम्बोधित कर रहे थे। चार घंटे देरी से पहुंचे मंत्री ने अपने ही बिरादरी के मंत्री ओमप्रकाश राजभर को निशाने पर रखा और प्रत्याशी को जीत दर्ज कराने की अपील की। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गरीबों के कलंक को धोने का काम किया है। प्रदेश में अप्रत्याशित तौर पर विकास हुआ है और आगे सरकारी योजनाएं इस तरह से बनायी गयी है कि सूबे को लोग शानदार प्रदेश के रूप में याद रखेंगे।

कहा कि सुहलेद के नाम राजभरों को बेचने वालों के दिन अब लद गए हैं। इसलिए पार्टी को ताकत देने के बजाय कमजोर करने का प्रयास किया जा रहा है। ऐसे लोगों को उखाड़ फेंकना है। भाजपा सरकार ने लखनऊ में महाराजा सुहलेदेव की मूर्ती को स्थापित किया व गाजीपुर से सुहलदेव के नाम पर स्पेशल ट्रेन को चलाया दूसरा अगर चला दे तो हम राजनीति से सन्यास ले लेंगे। गरीबों का विकास होगा परन्तु टिकट बेचने वाले लगातार कमजोर कर रहे हैं। मंत्री ने कहा माफि या डॉन के इशारे पर निकाय चुनाव में वे रसड़ा मे अपने प्रत्याशी लड़ा रहे हैं। प्रदेश में सरकार बनाने के लिए 202 विधायकों की जरुरत होती है जबकि भाजपा के पास 225 हैं अगर उनकी पार्टी निकल भी जायेगी तो भाजपा की सेहत पर कोई फ र्क नहीं पडऩे वाला।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *