बेलगाम रेत माफिया

बेशक विपक्ष का शोरोगुल सदन के गलियारों में खूब गूंजा, लेकिन पंजाब का विधानसभा सत्र बिना किसी पुख्ता कामकाज के सम्पन्न हो गया। राज्य में सक्रिय ड्रग तथा रेत माफिया के खिलाफ किसी ठोस कार्रवाई को लेकर लोगों के हाथ नाउम्मीदी ही लगी। इनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई के वादे ने ही चुनाव जिता कर कांग्रेस को सत्ता तख्त पर बिठाया था, लेकिन मुख्यमंत्री अमरिन्दर सिंह ने आज तक उस वादे पर अमल नहीं किया। ये अवैध खनन का धंधा यूं ही परवान नहीं चढ़ा, दरअसल इसके पीछे ऐसा नेटवर्क है जिसमें बाहुबली ट्रांसपोर्टर तथा कॉन्ट्रेक्टर संलिप्त होते हैं और यह नेटवर्क बिना किसी राजनेता या पुलिस की मदद से चल ही नहीं सकता। दुख की बात है कि कांग्रेस सरकार ने आश्वासनों के बावजूद माफिया के इस चक्रव्यूह को नहीं तोड़ा, न ही सांठगांठ की सीवनें उधेड़ीं। इस अवैध खनन में कई कांग्रेसी नेताओं ने भी खूब हाथ रंगे। ऐसी खबरें अमरिन्दर सरकार के कार्यभार संभालते ही मिलनी शुरू हो गयीं थीं। मोहाली जिले के माजरी ब्लॉक तथा डेराबस्सी में पहाड़ियों को रेत के समतल मैदान में तबदील करते ये लोग कौन हैं?  पिछले दिनों एक विधायक की शह पर पुलिस द्वारा माइनिंग स्टाफ को आंखें दिखाने का मामला भी खूब सुर्खियां बना था। हालिया नीलामी इसीलिए सिरे नहीं चढ़ी, क्योंकि बोली लगाने की उम्मीदों पर नीलामी खरी नहीं उतरी। पंजाब में रेत की कीमतें नीचे जरूर गिरीं, लेकिन इसका कारण सरकारी नीतियां नहीं बल्कि अवैध खनन जिम्मेवार है। रेत खनन को मुनाफे में तबदील करने के खेल ने रेत की आपूर्ति बढ़ा दी है।
लगता है कि कैप्टन अमरिन्दर सरकार के पास रेत माफिया के खिलाफ कदम उठाने की इच्छाशक्ति नहीं है। अपने रिश्तेदारों को माइनिंग ठेके दिलाने के आरोप जिस शख्स पर लगे हैं, वे अमरिन्दर सरकार में प्रभावशाली भूमिका में हैं, जिनके खिलाफ आज तक कुछ नहीं हुआ। वजह साफ है ,क्योंकि जांच के आदेशों के बावजूद रिपोर्ट सरकारी अलमारी में बंद है। रेत खनन माफिया की सफाई कांग्रेस सरकार को पहले अपने घर से ही शुरू करनी चाहिए। दरअसल भ्रष्टाचार कांग्रेस सरकार को विरासत में मिला है। वह भी अलग-अलग रूपों में। शराब, केबल तथा ट्रांसपोर्ट ऐसे तीन नाम हैं जो फिनिक्स पंछी की मानिंद हर बार जीवित हो जाते हैं, भले ही कोई सरकार हो। भ्रष्टाचार के इस कैंसर रोग ने पंजाब के ताने-बाने को बिगाड़ कर रख दिया है। ऐसे हालात में जनता सरकार से उम्मीद लगाये हुए है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *