इटली के फैशन पर इतराएगी यूपी की खादी . सत्यदेव पचौरी

खादी को विदेशों तक ले जाना है उद्देश्य

 कानपुर। 

प्रदेश में खस्ताहाल खादी उद्योग को बढ़ावा देने के लिए खादी को मॉडर्न लुक देने की कोशिश की जा रही है। मौजूदा देशी-विदेशी फैशन के मुताबिक खादी के कपड़े तैयार किए जाएंगे। इसकी शुरुआत से पहले प्रदेश सरकार का प्रतिनिधिमंडल दुनिया में फैशन एवं डिजाइनिंग के लिए मशहूर इटली के मिलान शहर में है। प्रदेश सरकार अध्ययन करा रही है कि कम दाम में कैसे खादी को लोकप्रिय बनाया जाए। खादी के कुर्ते-पायजामे के अलावा युवाओं की पसंद की जीन्स, शर्ट और खादी सिल्क के कपड़े मुहैया कराए जाएं।
मिलान शहर पहुंचे अध्ययन दल की अगुवाई खुद खादी एवं ग्रामोद्योग मंत्री सत्यदेव पचौरी कर रहे हैं। इनके साथ मुख्यमंत्री योगी अादित्यनाथ के विशेष सचिव अमित सिंह और अन्य अफसर भी हैं। मिलान पहुंचा यह दल खादी की डिजाइन से लेकर कुटीर उत्पादों की प्रक्रिया समझ रहा है। दस सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल मिलान के फैशन के अनुरूप खादी के कपड़े तैयार करने की तकनीक समझ रहा है। यह दल 10 दिसंबर को लौटेगा। सोमवार को खादी एवं ग्रामोद्योग मंत्री मुख्यमंत्री के सामने अपने दौरे का प्रजेंटेशन देंगे।
कैबिनेट मंत्री सत्यदेव पचौरी ने इटली से हिन्दुस्तान को बताया कि इटली दौरे से लौटने के बाद मुख्यमंत्री के समक्ष मिलान शहर में किए गए अध्ययन का प्रजेंटेशन होगा। इसके पीछे एक ही मकसद है कि चाहे खादी हो या फिर कुटीर उद्योगों के उत्पाद, सबको डिमांड के मुताबिक तैयार कर युवाओं को रोजगार दिया जाए। इससे एक तो ग्रामीणों को घर बैठे रोजगार मिलेगा और युवाअों का पलायन रुकेगा।
इटली दौरे पर पहुंचे प्रतिनिधिमंडल ने मिलान शहर की टेक्सटाइल्स इंडस्ट्री का दौरा किया। शुक्रवार और शनिवार को फैशन डिजाइनरों और वहां के युवाओं से भी मौजूदा फैशन पर बात की। कुछ उद्योगपतियों को इंडस्ट्री लगाने का न्योता भी दिया। भरोसा दिया कि यूपी में आभारभूत ढांचा और औद्योगिक माहौल सरकार मुहैया कराएगी। कुछ डिजाइनरों से भी सरकार करार करेगी। उनकी डिजाइन के आधार पर कपड़े तैयार कराकर बाजार को मुहैया कराएगी।

प्रतिनिधिमंडल ने यह भी पता लगाया कि यूपी की खादी विदेशों तक कैसे पहुंचाई जाए। विदेशियों की पसंद और फैशन के मुताबिक ही खादी और कुटीर उत्पाद तैयार कराए जाएंगे। दल का मानना है कि मिलान से ही फैशन जन्म लेता है। जब इस तरह के खादी उत्पाद यूपी में बनने लगेंगे तो निर्यात को प्रोत्साहन मिलेगा। इससे भी आमदनी तो बढ़ेगी ही  गांवों में रोजगार के नए साधन सृजित होंगे। मेक इन इंडिया का नारा भी सार्थक होगा।
इटली के मिलान शहर के दौरे पर गए प्रतिनिधिमंडल में कई तरह के घरेलू उद्योंगों से जुड़े लोग और कॉस्मेटिक उत्पाद तैयार करने वाले 8 उद्यमी भी शामिल हैं। प्रदेश सरकार इस बात की कोशिश में है कि खादी का कच्चा माल गांवों में तैयार कराया जाए और बड़ी कंपनियों के जरिए मौजूदा फैशन और डिमांड के मुताबिक उत्पाद तैयार कराए जाएं। इससे कुटीर उद्योग को बढ़ावा मिलेगा, रोजगार के अवसर सृजित होंगे और निवेश भी बढ़ सकता है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *