पोंटी चड्ढा का साम्राज्य खत्म कर देंगी कल्पना अवस्थी

योगी सरकार का वाईन किंग पर कहर: 54 करोड़ जमा करो वर्ना जब्त होंगी दुकानें

पोंटी चड्ढा का साम्राज्य खत्म कर देंगी कल्पना अवस्थी

सूबे में पोंटी चडढ ग्रुप के सभी दुकानों,गोदामों में आज हो रही है छापेमारी

संजय श्रीवा.
लखनऊ।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नौकरशाहों की बेस्ट टीम की सदस्य कल्पना अवस्थी को प्रमुख सचिव,आबकारी बनाया गया है। योगी सरकार की मंशा है कि नई आबकारी नीति आने से पहले वाईन किंग पोंटी चड्ढा की कंपनी मे. एक्यूरेट फूड्स एण्ड ब्रिवरेजज प्रा.लि. द्वारा सरकार को लगाये गये करोड़ों रुपए की चपत का करारा जवाब दे सकें। प्रमुख सचिव बनने के बाद कल्पना अवस्थी ने पोंटी चड्ढा के साम्राज्य को ध्वस्त करना शुरू कर दिया है। उन्होंने मेरठ जोन में इस ग्रुप द्वारा वर्ष 2017-18 में अंगे्रजी,बीयर,देशी शराब की दुकानें आवंटित होने के बाद उसे बंद रखने एवं लाइसेंस फीस जमा ना करने से होने वाली करोड़ों रुपए के सरकारी नुकसान की भरपाई करने के लिये आखिरी तारीख 6 जनवरी दी है। स्पष्टï है कि यदि पोंटी चड्ढा गु्रप बकाये की लगभग 54 करोड़ रकम जमा नहीं करेंगे तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जायेगी। उसमें उनकी मेरठ जोन में पडऩे वाली अंग्रेजी,देशी,मॉडल शॉप,बीयर की दुकानों को सीज कर दिया जायेगा। इसी कड़ी में प्रमुख सचिव,आबकारी के निर्देश पर तीन जनवरी को पूरे प्रदेश में आबकारी और जिला प्रशासन स्तर से शराब की दुकानों की चेकिंग की गयी। आज यानि 5 जनवरी को प्रदेश में पोंटी चड्ढा ग्रुप के थोक आपूर्ति गोदामों की सघन जांच की जा रही है।

नव वर्ष पोंटी चड्ढा ग्रप के लिये बधाई का नहीं बल्कि अवसाद का साल होने वाला है। भाजपा की सरकार बनने के बाद से ही कयास लगाया जाने लगा था कि अब वाईन किंग के नाम से मशहूर पोंटी चड्ढा का एक छत्रराज खत्म हो जायेगा लेकिन पिछले छह माह की बात करें तो उसकी हकूमत इस सरकार में भी देखने को मिली। सरकार में मंत्री से लेकर संतरी, यहां तक की आबकारी विभाग में भी उसके एक इशारों पर बड़ी-बड़ी कुर्सियां खिसकती रही। इसका अंदाजा इसी से लगा सकते हैं कि तात्कालीन प्रमुख सचिव,आबकारी दीपक त्रिवेदी ने 15 दिसंबर को 2017 को पोंटी चड्ढा ग्रुप पर पूरी मेहरबानी दिखा दी थी। उन्होंने इस ग्रुप के लिये नई आबकारी नीति का ढांचा बनाने की पूरजोर कोशिश की इसके अलावा मेरठ जोन में 453 शराब की 2017-18 सत्र की बंद दुकानों की निकासी एवं लाइसेंस फीस जो लगभग 54 करोड़ रुपए आती है,को माफ कर दिया था।


बता दें कि सुप्रीम कोर्ट का निर्देश है कि हाईवे के किनारे खुली शराब की दुकानों को हटा दिया जाये। बताया जाता है कि पोंटी चड्ढा ग्रुप के पास मेरठ, बागपत, बुलंदशहर, गाजियाबाद, हापुड़ , गौतमबुद्ध नगर , मुरादाबाद , संभल , अमरोहा, रामपुर ,बिजनौर , सहारपुर , मुजफ्फरनगर, शामली , बरेली, बदायूं, पीलीभीत एवं शाहजहांपुर में पडऩे वाली देशी, अंग्रेजी, बीयर शॉप एवं मॉडल शाप की दुकानें पिछले कई सालों से बंद कर दी गयी थी। इसके चलते सरकार को करोड़ों की चपत लग रही थी। खैर,तात्कालीन प्रमुख सचिव,आबकारी दीपक त्रिवेदी ने पश्चिम मंडल में पडऩे वाली सभी दुकानों की निकासी एवं लाइसेंस फीस माफ कर इस ग्रुप के प्रति अपनी वफादारी दिखाकर मोटी रकम अंदर कर ली। 15 दिसंबर को जारी इसी आदेश को कल्पना अवस्थी ने खारिज कर दिया है।

29 दिसंबर 2017 को आबकारी आयुक्त को लिखे गये पत्र में कल्पना अवस्थी ने हवाला दिया है कि उ.प्र. डिमार्केशन एण्ड रेग्यूलेशन ऑफ स्पेशल जोन्स फार एक्सक्लूसिव प्रिवलेज ऑफ एक्साइज शॉप रूल्स, 2009 द्वारा गठित विशिष्ट जोन मेरठ की देशी शराब,विदेशी मदिरा,बीयर की फुटकर दुकानों व सभी मॉडल शॉप के अनुज्ञापन के संचालन के लिये वर्ष 2011-12 में एकांतिक विश्षाधिकार मे. ऐक्यूरेट फू्डस एण्ड ब्रिवरजेज प्रा.लि. को प्रदान किया गया था जिसका नवीनीकरण 2017-18 तक समय-समय पर किया गया है। विशिष्ट जोन मेरठ के संबंध में 15 दिसंबर 2017 द्वारा शुरू से ही एब-इनीटो निरस्त किया जाता है।

आपके उपरोक्त पत्रों में उपलब्ध कराये गये प्रस्तावनानुसार विशिष्ट जोन,मेरठ की विशेष प्रास्थिति के दृष्टिगत संबधित क्षेत्र से असंचालित आबकारी दुकानों को संचालित कराये जाने का उत्तरदायित्व मे. एक्यूरेट फूड्स एण्ड बिवरजेज प्रा.लि. पर निर्धारित करते हुये असंचालित आबकारी दुकानों की सभी देयताओं की वसूली सुनिश्चित की जाये। यदि उक्त अनुज्ञापी द्वारा निर्देश के बावजूद देयताएं जमा नहीं की जाती है तो राजस्वहित में विशिष्ट जोन,मेरठ की देशी शराब,विदेशी मदिरा,बीयर की फुटकर दुकानों व मॉडल शॉप के संचालन के लिये जारी किये गये एकान्तिक विशेषाधिकार को निरस्त किये जाने की नियमानुसार कार्रवाई की जाये।

आबकारी विभाग के आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि 6 जनवरी पोंटी ग्रुप के लिये रकम जमा करने की आखिरी मियाद सरकार ने तय की है। यदि बकाये की लगभग 54 करोड़ रुपए नहीं जमा करते हैं तो सरकारी कार्रवाई शुरू हो जायेगी। इस पत्र के बाद प्रदेश सभी आबकारी अधिकारियों एवं जिलाधिकारियों को वाईन किंग की शराब की दुकानों एवं गोदामों में छापामारी करने का फरमान जारी किया गया है। बताया यह भी जाता है कि प्रमुख सचिव,आबकारी कल्पना अवस्थी के इस आक्रामक तेवर के खिलाफ अपना वजूद बचाने के लिये पोंटी चड्ढा ग्रुप न्यायालय की शरण में जायेगा।

 

 

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *