जलनिगम के एक्सईएन, एई और जेई को निलंबित करने का आदेश

वाराणसी।

नगर विकास और जिले के प्रभारी मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने शनिवार को पेयजल गृह संयोजन में खामियां मिलने पर जलनिगम के अधिशासी अभियंता, एई व जेई को निलम्बित करने का आदेश दिया। वे केंद्रीय परियोजनाओं की समीक्षा करने के बाद अमृत योजना के कार्यों का निरीक्षण करने ट्रांस वरुणा पहुंचे थे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आगमन के मद्देनजर तैयारियों की समीक्षा और विकास कार्यों का हाल जानने प्रभारी मंत्री दोपहर 12 बजे बनारस पहुंचे थे। आयुक्त सभागार में पेयजल, सीवर सहित अन्य विकास परियोजनाओं की समीक्षा की। पेयजल के कार्यों में अपेक्षित प्रगति नहीं देख अधिकारियों को चेतावनी दी।

दोपहर में तीन बजे प्रभारी मंत्री ट्रांस वरुणा में चल रहे गृह कनेक्शन के कार्यों का निरीक्षण करने अशोक विहार व पैगम्बरपुर में पहुंचे। कई जगहों पर मिट्टी के ऊपर पाइप गुजरते देख उन्होंने अधिकारियों से पूछताछ की। कुछ जगहों पर चार से पांच इंच मिट्टी के अंदर पाइप देख वे नाराज हो गए।

उन्होंने परियोजना के प्रोजेक्ट मैनेजर और अधिशासी अभियंता एके सिंह से कहा कि आपका काम क्षमा योग्य नहीं है। उन्होंने मौके पर ही एक्सईएन के साथ सहायक अभियंता अनूप सिंह व अवर अभियंता शशिकांत मौर्या को निलम्बित करने का निर्देश दिया। लखनऊ जाते समय हेलीपैड पर विभागीय अधिकारियों ने काफी मान-मनौवल की। लेकिन नगर विकास मंत्री भविष्य के लिए भी चेतावनी देते हुए रवाना हो गए।

सेवानिवृत्त मुख्य अभियंता के खिलाफ मुकदमा का आदेश 
आयुक्त सभागार में समीक्षा बैठक के दौरान सिस वरुणा क्षेत्र में डाली गयी पेयजल पाइप लाइन की गुणवत्ता खराब तथा कार्य को कई ठेकेदारों के माध्यम से कराने की वजह से अधिक गैप होने पर जलनिगम के तत्कालीन एवं सेवानिवृत्त मुख्य अभियंता आरके द्विवेदी के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कराने का निर्देश दिया है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *