डीजी का तालीबानी फरमान: उत्तर प्रदेश के होमगार्ड अब करेंगे शौचालय में ‘मल’ की सफाई

वीडियो कान्फ्रेंसिंग में सूर्य शुक्ला ने कहा: स्वीपर नहीं हैं तो होमगार्डों को उनकी जगह लगायें

शर्मनाक: डीजी की वीडियो कान्फ्रेंसिंग में गायब मिले मुरादाबाद प्रशिक्षण केन्द्र के कमांडेंट अरूण सिंह

डीजी के साथ कान्फ्रेंसिंग में बैठे मिले दो मंडलीय कमांडेंट

क्या दोनों मंडलीय कमांडेंट से डीजी एवं डीआईजी करा रहे हैं पर्सनल काम ?

कमांडेंट का दर्द : हमको डांटो और आजमगढ़,देवीपाटन मंडल के अफसरों पर प्यार लुटाओ

संजय पुरबिया

लखनऊ।

रिटायरमेंट जैसे-जैसे करीब आ रहा है डीजी,होमगार्ड डॉ. सूर्य शुक्ला एक से बढक़र एक तुगलकी फरमान जारी करते चले आ रहे हैं। आज तो उन्होंने ऐसा आदेश दिया जिसे सुनने के बाद कल से सूबे के 95 हजार होमगार्डों की सांसे हलक में आ
जायेंगी। मेरा दावा है कि सूरज निकलने के बाद जब ये खबर पढ़ेंगे तो सभी होमगार्ड सूर्य शुक्ला के खिलाफ अभियान छेड़ देंगे,क्योंकि हजारों जवान ऐसे हैं जो अपने गांव में करोड़पति की हैसियत रखते हैं। चलिए, अब आपलोगों को बता ही दें कि डीजी साहेब का तुगलकी फरमान क्या है…। साहेबान आज प्रदेश के सभी जिला कमांडेंट,मंडलीय कमांडेंट के साथ वीडियो कान्फ्रेंसिंग कर रहे थे। इस दौरान गोरखपुर के कमांडेंट अजय पाण्डेय,देवरिया के कमांडेंट अनिल ढिंगरा सहित कई अन्य अफसरों ने डीजी साहेब के सामने स्वीपर ना होने की समस्या रखी। अफसरों ने कहा कि स्वीपर ना होने से शौचालय बजबजा रहा है। मल की दुर्गंध से कुर्सी पर बैठना दूभर हो जाता है। बस फिर क्या,डीजी साहेब को ये बात नागवार गुजरी,उन्होंने तत्काल फरमान जारी किया कि आपलोग इस काम में होमगार्डों का लगा लो…।

मतलब साफ है,अब होमगार्डों को बावर्दी डीजी साहेब,एडीजी साहेब,डीआईजी साहेब,मंडलीय साहेब और कमांडेंट साहेबानों के शौचालयों में जाकर उनका मल साफ करना होगा। ये बात लिखते हुए भी मुझे शर्म आ रही है तो क्या डीजी साहेब की जुबान से जवानों के लिये इतना घटिया शब्द निकालते समय रत्ती भर शर्म नहीं आयी ? सरकारी विभागों,चौराहों के साथ-साथ प्रतिष्ठïानों की सेवा करने एवं पुलिस के साथ कदम ताल करने वाले वर्दी की शान होमगार्ड अब अफसरों का शौचालय साफ करेंगे? क्या जवान अब स्वीपर का काम करेंगे ?

मेरा सभी जवानों से यही आग्रह है कि यदि आपलोगों में थोड़ा भी शर्म-हया है तो आपलोग डीजी के इस बेतुका फरमान के खिलाफ आवाज मुखर करें, इंडिया एक्सप्रेस न्यूज डॉट कॉम एवं द संडे व्यूज़ आपके साथ कदम से कदम मिलाकर चलेगा। ये मेरा वायदा है…
अब दूसरे  मुदद्े   पर  आते हैं। डीजी की वीडिया कान्फें्रसिंग चल रही है,सभी जिलों के कमांडेंट मौजूद थें लेकिन मुरादाबाद का कमांडेंट अरूण सिंह नदारद मिला। इससे साबित होता है कि उसकी नजरों में डीजी की क्या इज्जत और हैसियत है। दूसरी तरफ,डीजी जब ब्रिफिंग कर रहे थें,उस दौरान उनके साथ दो मंडलीय कमांडेंट क्रमश: देवीपाटन के के.एच.मिश्रा एवं आजमगढ़ के रंजीत सिंह मौजूद थें। कई कमांडेंट्स का आरोप है कि मुख्यालय पर यदि कोई कमांडेेंट चला जाता है तो डीजी और डीआईजी तलाड़ लगाते हैं,तो ये दोनों अपने-अपने जिलों में होने के बजाय लखनऊ में क्या कर रहे थे ? क्या ये डीजी को नहीं दिखायी दे रहा है ? कुछ ने चुटकी लेते हुये कहा कि लगता है दोनों मंडलीय कमांडेंट से डीजी सूर्य शुक्ला एवं डीआईजी एस.के.सिंह अपना बड़ा (पर्सनल) काम करा रहे हैं…खैर,मैं तो यही कहूंगा कि डीजी साहेब आपके इस तुगलकी फरमान का असर आज नहीं तो आगामी 1 मई को होने वाले होमगार्डों के प्रदर्शन में जरूर देखने को मिलेगा। अब आप तय करें कि जवानों से अपना, अपने अफसरों का मल साफ कराएंगे या फिर…

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *