कुशीनगर : ट्रेन-स्कूल वैन की टक्कर में 13 बच्चों की मौत, रेलवे की लापरवाही से गयी जाने

सीएम योगी और डीजीपी ने कुशीनगर हादसे पर जताया दुःख

लखनऊ।

कुशीनगर हादसे में 13 बच्चों की दर्दनाक मौत के बाद मानव रहित क्रॉसिंगों को लेकर एक बार फिर सवाल उठ रहे हैं। पूर्व में भी गोरखपुर-बस्ती मंडल में मानव रहित क्रॉसिंग पर ऐसे दर्दनाक हादसे हो चुके हैं। लेकिन गुरुवार सुबह कुशीनगर में हुई दुर्घटना के लिए काफी हद तक ड्राइवर की लापरवाही भी जिम्मेदार थी।

बताया जा रहा है कि जिस क्रासिंग पर यह हादसा हुआ वहां गेट मित्र तैनात था। उसने स्कूल वैन को क्रासिंग पार करने की कोशिश करते और दूसरी तरफ से ट्रेन को आते देखा तो चेतावनी देने की कोशिश भी की। गेट मित्र आवाज देता रहा लेकिन कान में हेडफोन लगाए ड्राइवर ने उसकी आवाज सुनी ही नहीं। ड्राइवर की इस लापरवाही की वजह से उसे सीवान की तरफ से आती 55075 अप ट्रेन के इतने नजदीक आ जाने का एहसास ही नहीं हुआ और देखते-देखते उसकी वैन ट्रेन से जा टकराई।

बता दें कि उत्तर प्रदेश के कुशीनगर विशुनपुरा थाना क्षेत्र के बहपुरवा रेलवे क्रासिंग पर गुरूवार को एक बड़ा हादसा हो गया है। यहां रेलवे क्रॉसिंग पर सामने से आ रही सीवान से गोरखपुर जाने वाली ट्रेन से ( ट्रेन नंबर 55075)  बच्चों से भरी एक मैजिक वैन टकरा गई। इस हादसे में अब तक 13 बच्चों की मरने की पुष्टि हो चुकी है, 4 बच्चे गम्भीर रूप से घायल हैं बच्चों और ड्राइवर को कुशीनगर जिला अस्पताल भेजा गया है। फिलहाल मौके पर स्‍थानीय लोग और पुलिसा बल पहुंच चुका है। राहत व बचाव कार्य जारी है।

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस मामले में दुःख जताते हुए जांच के आदेश दिए हैं। सीएम ने गोरखपुर कमीशनर को हादसे की जांच कर रिपोर्ट सौंपने के निर्देश दिए हैं। वहीं मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये मुआवजा देने का भी निर्देश दिया है।कुशीनगर जिले में हुए दुर्भाग्यपूर्ण ट्रेन दुर्घटना में स्कूली बच्चों की मृत्यु पर गहरा दुःख पंहुचा। ईश्वर से दिवंगत आत्मा की शांति एवं परिजनों को संबल देने की प्रार्थना करता हूँ। दुर्घटना से प्रभावित लोगों के समुचित इलाज की व्यवस्था कराने व हर सम्भव मदद करने के निर्देश दिए हैं।

वहीं प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह ने भी हादसे पर दुःख जाहिर किया है। उन्होंने दुख जताते हुए कहा कि मौके पर स्थानीय पुलिस और जिला प्रशासन बचाव कार्य में जुटा है। रेलवे अधिकारियों को भी सूचित कर दिया गया है। एसडीआरएफ की टीम को भी मौके पर भेजा जा रहा है। डीजीपी ने कहा कि फिलहाल घायलों को उचित इलाज मिले इसकी व्यवस्था की जा रही है। गलती किसकी है यह जांच का विषय है। जांच के बाद जिम्मेदारी तय होगी और भविष्य में ऐसा हादसा न हो यह भी सुनिश्चित किया जायेगा।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *