गरीबी को मात दे कुबेर ने यूपी बोर्ड में बजाया मेधा का डंका

राजकीय इंटर कॉलेज निशातगंज को मिली  राजधानी की मेरिट सूची में पांचवी रैंक

 बगैर कोचिंग, 10 घंटे नियमित पढ़ाई कर 89.80 फीसदी अंक किये हासिल

पहला लक्ष्य आईआईटी की पढ़ाई, फिर सिविल सर्विस

कॉलेज प्रिसिंपल बोले सेवानिवृत्त होने से  पहले छात्रों ने दिया बड़ा  उपहार

लखनऊ।

यूपी बोर्ड के रविवार को घोषित नतीजों में राजकीय इंटर कॉलेज निशातगंज के छात्र कुबेर नाथ 89.80 फीसदी अंकों के साथ राजधानी में पांचवी रैंक हासिल की है। कुबेरनाथ बेहद गरीब परिवार के हैं। उन्होंने बताया कि वह अच्छी शिक्षा के लिए अपने गृह जनपद बहराइच से लखनऊ आए। इसके बाद उन्होंने राजकीय इंटर कॉलेज निशातगंज का चयन किया। जो मेरे सभी मानकों पर बिल्कुल खरा उतरा है । इनके पिता इन्द्रभान किसान व माता गृहणी हैं। कुबेर ने बताया कि बोर्ड परीक्षा की तैयारी के लिए पांच छात्रों का एक ग्रुप बनाया था। इन्हीं के माध्यम से बोर्ड परीक्षा की तैयारी की है। अपनी पढ़ाई का खर्च कुबेरनाथ ट्यूशन व शिक्षकों के मदद से पूरा किया है। उन्होंने कहा कि  मेहनत किया जाए तो कोई भी कठिन लक्ष्य आसानी से हासिल किया जा सकता है।

 

 

कुबेर ने बताया कि बोर्ड में जो उनका रिजल्ट आया है। उसके लिए कोई कोचिंग नहीं की। उन्होंने बताया कि 10 घंटे नियमित पढ़ाई कर वह कॉलेज के शिक्षकों के मार्ग दर्शन का परिणाम है। उन्होंने बताया कि सुपर-30 कोचिंग की परीक्षा वह पास कर चुके हैं,  लेकिन इंटर की पढ़ाई की वजह से वह उसको ज्वाइन नहीं कर सके। कुबेर नाथ जेईई-मेंस की परीक्षा दे चुके हैं। उन्होंने बताया कि उन्हें पूर्ण विश्वास है कि वह कटआफ पार कर जाएगें।

 

कुबेर नाथ ने बताया कि इंटर के पहला लक्ष्य आईआईटी की पढ़ाई करने का है। उसके बाद सिविल सर्विस में जाने का लक्ष्य तय किया है। सिविल सर्विस में जाने के बारे में कुबेर ने बताया कि इसके माध्यम से हम अपने जिले को सबसे पहले सुधारने का प्रयास करेंगे। कुबेर ने कहा कि मोदी अच्छे प्रधानमंत्री हैं, लेकिन उनकी पार्टी बेकार है। योगी सरकार के इस बार बोर्ड परीक्षा में नकल रोक जाने को एक सराहनीय कदम बताया । उन्होंने कहा कि इससे अच्छी पढ़ाई करने वाले छात्रों को मेहनत का फल मिला है। उन्होंने कहा कि सरकार कोई भी आए जा जाए, लेकिन परीक्षा को नकल मुक्त होना चाहिए। तभी हम युवा पीढी की प्रतिभा को सहीं ढंग से निखार पाएगें। कुबेर ने कॉलेज के वातातरण की प्रशंसा की।

 

कॉलेज के प्रिसिंपल बीएन खरे ने परीक्षा परिणाम पर खुशी जाहिर की  है। श्री खरे अगले माह सेवानिवृत्त हो रहे हैं। उन्होंने बताया कि सेवानिवृत्त होने से  पहले कॉलेज को छात्रों ने एक बड़ा  उपहार दिया है। श्री खरे राजकीय पुरस्कार से सम्मानित होकर पांच साल सेवाविस्तार मिल  चुका  है। कॉलेज के प्रिसिंपल ने छात्रों व शिक्षकों के पढ़ाने की शैली की काफी प्रशंसा की ।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *