बीजेपी वाले तय कर रहे हैं कि किसे न्याय मिले किसे नहीं

 

लखनऊ प्रेस कांफ्रेंस : अखिलेश यादव का योगी सरकार पर हमला

 

लखनऊ। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गुरूवार को पार्टी कार्यालय में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में योगी सरकार के खिलाफ जमकर हमला बोला इस दौरान अखिलेश ने सरकार पर अपने कार्यकाल में चलायी गयी योजनाओं पर रोक लगाने के मुद्दे को उठाया। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि बीजेपी के लोग तय कर रहे हैं कि किसे न्याय मिलना चाहिए और किसे नहीं।

यूपी की राजधानी लखनऊ में स्थित पार्टी कार्यालय में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में अखिलेश यादव ने कहा कि वह लखनऊ में शान-ए-अवध बना रहा था, अब उसे बेच दिया गया है। उन्होंने कहा कि हजारों करोड़ की कीमत वाले प्रॉजेक्ट को सिर्फ कुछ करोड़ में बेच दिया गया। मैं मांग करता हूं इसकी भी सीबीआई जांच होनी चाहिए। भाजपा पर आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि ये सरकार फर्जी मुद्दों से लोगों का ध्यान हटाने में लगी है। इस सरकार को NHRC की इतने नोटिस मिले हैं, जितनी किसी और सरकार को नहीं मिले।

वहीं सीतापुर में आदमखोर कुत्तों के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि अगर पुलिस के निशाने अच्छे है तो सीतापुर में कुत्तों को क्यों नही पकड़ रहे। कैराना के उपचुनाव में हिंदू-मुसलमान कहकर ये लोग माहौल खराब बना रहे हैं। बीजेपी के लोग तय करते हैं कि किसे न्याय मिलेगा किसे नहीं।

इस दौरान अखिलेश यादव ने सीएम योगी के कर्नाटक दौरे पर तंज कसते हुए कहा कि सीएम योगी को कर्नाटक की कानून-व्यवस्था की तो चिंता है। लेकिन प्रदेश की कानून-व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए उनकी सरकार ने कुछ नहीं किया। उन्होंने कहा कि यूपी में हत्याएं रुक नहीं रही है और इलाहाबाद में एक वकील और सभासद जबकि सहारनपुर दलित नेता की हत्या कर दी गई।

लखनऊ प्रेस कांफ्रेंस में अखिलेश ने एनकाउंटर को लेकर तंज कसते हुए कहा कि कथित मुठभेड़ से प्रदेश की कानून-व्यवस्था सुधरने वाली नहीं है। इसके लिए ठोस कदम उठाने की जरुरत है। उन्होंने कहा कि बीजेपी ने डायल 100 सेवा को भी बर्बाद करने का काम किया। सपा अध्यक्ष ने कहा कि मेरठ के मवाना क्षेत्र में पुलिस ने पिछले नरेन्द्र गुर्जर को फर्जी गोकशी के मामले में इतना मारा कि उसने दम तोड़ दिया।

इस दौरान अखिलेश ने मीडिया के सामने ने पीड़ित के भाई को भी पेश किया। उसने पुलिस पर गंभीर आरोप लगाये। उसका कहना था नरेन्द्र वाहन चलाता था और वह खरीदी गई दुधारु गायों को लेकर जा रहा लेकिन पुलिस ने उसे गोकशी के फर्जी मुकदमें में जेल भेज दिया। पैसे की मांग पूरी नहीं होने पर उसके भाई को इतना मारापीटा गया कि उसने दम तोड़ दिया।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *