राजेश साहनी के मौत के जिम्मेदार असीम अरूण हैं: यतीन्द्र शर्मा

राजेश साहनी के मौत के जिम्मेदार असीम अरुण-  यतीन्द्र शर्मा

राजेश साहनी की मौत के बाद इंस्पेक्टर,एटीएस यतीन्द्र शर्मा ने दिया इस्तीफा

यतीन्द्र ने आईजी,एटीएस पर लगाए चार गंभीर आरोपब्यूरो
लखनऊ।

बता दें कि यतीन्द्र शर्मा ने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा परम आदरणीय स्वर्गीय राजेश साहनी सर की एटीएम में आत्महत्या से दुखी और पुलिस विभाग की कुव्यवस्था से व्यवस्थित होकर मैंने अपना त्याग पत्र डीजीपी यूपी को प्रेषित कर दिया है। इंस्पेक्टर यतींद्र शर्मा ने डीआईजी को इस्तीफ ा भेज दिया है। अपने पत्र में इंपेक्टर ने आईजी, एटीएस असीम अरूण पर गंभीर आरोप लगाए हैं। इंस्पेक्टर के पत्र से एटीएस की अंदरूनी कलह भी उजागर हुई है। इंस्पेक्टर ने असीम अरुण पर अधीनस्थों को प्रताडि़त करने का आरोप लगाया है। इसके साथ ही उन्होंने आईजी, एटीएस पर जूनियर पुलिस अधिकारियों से धन उगाही का भी आरोप लगाया है। इंस्पेक्टर यतींद्र ने अपनी जान का खतरा भी जताया है। उन्होंने किसी भी अनहोनी के लिए आईजी, एटीएस असीम अरुण को जिम्मेदार बताया है।


एएसपी राजेश साहनी के द्वारा सुसाइड किए जाने के बाद एटीएस इंस्पेक्टर यतीन्द्र शर्मा ने आईजी, एटीएस असीम अरूण पर बेहद संगीन आरोप लगाते हुए कहा कि एटीएस के कुछ भ्रष्ट अफ सर राजेश साहनी की ईमानदारी से परेशान थे। जांच हो कि यतीन्द्र का इशारा किसकी तरफ है। इंस्पेक्टर यतीन्द्र का दूसरा आरोप बहुत सनसनीखेज है। उनका कहना है कि एटीएस के सीनियर अफ सर अपने जूनियर अधिकारियों के साथ ना सिर्फ गाली- गलौज करते हैं, बल्कि मारपीट भी करते हैं। प्रारंभिक जांच के आधार पर पैसा वसूल करने के लिए मजबूर करते हैं। इंस्पेक्टर यतीन्द्र का तीसरा आरोप और भी बड़ा है। वो अपने इस्तीफ़े में लिखते हैं कि आईजी एटीएस असीम अरूण और उनके कुछ कऱीबी अफ़ सरों ने राजेश साहनी के साथ पिछले कुछ समय में इतना भेदभाव, अन्याय किया और मानसिक तनाव दिया कि वो परेशान हो कर आत्महत्या के लिए मजबूर हो गए।

यतीन्द्र का चौथा आरोप ये है कि यूपी एटीएस में इतनी अराजकता और अव्यवस्था है कि वहां काम कर रहे पुलिस कर्मी अक्सर आत्महत्या तक करने की बात करते रहते हैं। लिखा कि राजेश बहुत क़ाबिल अफ ़सर थे और ऐसी अराजकता से तंग आ कर उन्होंने जान दे दी। एटीएस इंस्पेक्टर के ये सारे आरोप बेहद गंभीर और चौंकाने वाले हैं। आतंकवाद से लडऩे वाले संगठन का अगर वाक़ई ये हाल है तो इस देश और ख़ासतौर पर यूपी का तो भगवान ही मालिक है। उम्मीद है कि सरकार इन आरोपों की गंभीरता से जांच कराएगी। साथ ही आशा ये भी है कि जब तक राजेश साहनी की सुसाइड की और इन आरोपो की जांच नहीं हो जाती, तब तक आईजी, एटीएस असीम अरूण को एटीएस से दूर रखा जाएगा।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *