पूर्व बीजेपी विधायक के बेटे की गुंडई, एसआई पर पिस्तौल तानकर थाना फूंकने की दी धमकी

पूर्व बीजेपी विधायक के बेटे ने आरोपों को किया ख़ारिज

बाराबंकी। जब कोई सत्ता में होता है तो उसका नशा सिर चढ़कर बोलता है। ऐसा ही कुछ यूपी में बीजेपी के नेताओं और उनसे सम्बन्धित लोगों का है जो सत्ता के नशे खुलेआम गुंडागर्दी करते नजर आ रहे हैं। ताजा मामला बाराबंकी है जहां पर हैदरगढ़ विधानसभा क्षेत्र में पूर्व बीजेपी विधायक सुंदर लाल दीक्षित के बेटे पंकज दीक्षित की गुंडागर्दी देखने को मिली है। पंकज पर एसआई को रिवाल्वर तानकर धमकाने का आरोप लगा है। बता दें कि पूर्व बीजेपी विधायक पर किसी दूसरे की जमीन को कब्जवाने का आरोप है।

वहीं मामला मीडिया आने के बाद पंकज ने दीक्षित ने आरोपों को ख़ारिज किया है। वहीं एसआई पर रिवाल्वर तानने की बात से इनकार करते हुए उन्होंने कहा है कि वह बीजेपी के नगर अध्यक्ष हैं और उनकी एक आवाज पर सैकड़ों कार्यकर्ता आकर खड़े हो जाएंगे। वह छोटी से काम के लिए एसआई पर रिवाल्वर क्यों तानेंगे। यही नहीं उन्होंने सारा आरोप उल्टा एसआई शीतला प्रसाद मिश्रा पर मढ़ दिया।

पूर्व बीजेपी विधायक के बेटे पंकज ने कहा कि शीतला प्रसाद मिश्रा ने दूसरे पक्ष से रुपए लेकर एकतरफा कार्रवाई की है। इसलिए उन्होंने उनके खिलाफ आवाज उठाई है। उनके ऊपर लगाए गए सारे आरोप गलत हैं। हालांकि, हैदरगढ़ सीएचसी में जब पंकज दीक्षित पहुंचे तो वहां पर वे खुलेआम थाने को फूंकने की धमकी दे रहे थे।

दूसरी तरफ इस मामले में एसआई शीतला प्रसाद मिश्रा का कहना है कि हैदरगढ़ थाना क्षेत्र के दौलतपुर गांव के एक निवासी ने तहरीर दी थी कि उसकी जमीन पर जबरन कब्जा किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि वह इसकी जांच के लिए मौके पर गए थे। जब वह वहां पहुंचे तो वहां पर पूर्व बीजेपी विधायक के बेटे पंकज दीक्षित पहले से मौजूद थे।

एसआई ने बताया कि पंकज खुद बैठकर दूसरे की जमीन पर निर्माण कार्य करा रहे थे। जब उन्होंने वहां पर निर्माण कार्य को रुकवाने के लिए कहा तो उस मकान मालिक ने उनके ऊपर मारपीट का फर्जी आरोप लगाकर नाटक शुरू कर दिया। एसआई ने आरोप लगाया कि जब उन्होंने इस पूरे मामले की जानकारी सीओ हैदरगढ़ को देने गया तो पंकज दीक्षित ने वहां पहुंचकर उनके ऊपर पिस्तौल तान दी। जिसके बाद सीओ हैदरगढ़ ने मामले में बीच बचाव किया।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *