video कृष्णानगर पुलिस ने रात में छोड़ा आरोपी,दबाव पडऩे पर फिर किया गिरफ्तार

रोड एक्सीडेंट में कर्नल के बेटे की मौत पर पकरीपुल का रास्ता जाम

कृष्णानगर पुलिस ने रात में छोड़ा आरोपी,दबाव पडऩे पर फिर किया गिरफ्तार

एक दीवान सस्पेंड,कार चालक गिरफ्तार,प्रशासन ने की 30 हजार रुपए की मदद

ब्यूरो
लखनऊ।

सेना से रिटायर्ड आफिसर के बेटे की दुर्घटना में हुई मौत पर आज सुबह आठ बजे से परिजन उसकी अर्थी लेकर पकरीपुल पर बैठ गए। लगभग दो घंटे तक मौके पर प्रशासन नहीं पहुंचा। परिजनों का आरोप है कि मृतक के हत्यारे को गिरफ्तार किया जाए क्योंकि पुलिस ने रात में जिसे गिरफ्तार किया था उसे रिहा कर दिया था। इसके अलावा निजी हॉस्पिटल में इलाज के दौरान बरती गई लापरवाही पर वहां के लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। साथ ही मुआवजे की मांग की गई। इस दौरान पुलिस-प्रशासन पीडि़त परिवार की मांग को पूरा कर वीवीआईपी रास्ते का जाम खुलवाने की जल्दी में दिखे। खैर,मौके पर मौजूद एसपी,ईस्ट सर्वेश मिश्रा ने पीडि़त के परिजनों की मांग को पूरा करने का आश्वासन दिया। चालक संजय मिश्रा को गिरफ्तार करने के साथ ही दीवान त्रिभूवन चौधरी को निलंबित कर दिया है। जिला प्रशासन द्वारा आश्वासन दिया गया है कि अन्य मांगों को पूरा कराकर अवगत करा दिया जाएगा।


बता दें कि शनिवार देर रात फौजी कालोनी के रहने वालो पेशे से इलेक्ट्रिकल इंजीनियर प्रदीप कुमार सिंह बाईक से घरेलू सामान लेकर अपने घर जा रहे थे। बाराबिरूआ के निकट पीछे से आ रही कार ने टक्कर मार दी जिससे वो गंभीर रूप से घायल हो गए। मौके पर मौजूद राहगीरों ने कार आई-20 के चालक संजय मिश्रा को दबोच कर पुलिस के हवाले कर दिया। घायल प्रदीप को निकट के निजी हास्पिटल में भर्ती करा दिया। बताया जाता है कि रात में ही चालक को कृष्णानगर की पुलिस ने ले-देकर छोड़ दिया था। दूसरी तरफ,परिजनों का आरोप है कि निजी हास्पिटल के चिकित्सकों द्वारा इलाज में घोर लापरवाही बरती गई जिसकी वजह से प्रदीप की मौत हुई।


आज सुबह फौजी कालोनी में रहने वाले सैंकड़ों लोग प्रदीप की अर्थी लेकर पकरी का पुल रोड पर जमकर प्रदर्शन किया। सुबह आठ बजे से परिजन अर्थी लेकर मुख्य मार्ग पर बैठ गए लेकिन वहां पुलिस-प्रशासन का कोई अधिकारी नहीं दिखा। रास्ता जाम की सूचना मिलने पर इंस्पेक्टर कृष्णानगर अंजनी पाण्डेय दल-बल के साथ पहुंचे लेकिन प्रशासन से कोई नहीं आया। परिजनों का आक्रोश बढ़ते देख लगभग दो घंटे बाद प्रशासन की तरफ से एसडीएम पहुंचे।
पुलिस ने परिजनों की मांग पर मौके पर ही बताया कि चालक को गिरफ्तार कर लिया गया है।

दीवान को निलंबित करने के साथ ही मृतक के परिजनों को अंतिम संस्कार के लिए 30 हजार रुपए मुआवजा की आर्थिक मदद एवं सीएम से अन्य मुआवजे की बात लिखित रूप से की जा रही है। साथ ही निजी हॅास्पिटल के खिलाफ मजिस्ट्रेट जांच कराई जाएगी। इसके बाद घंटों की मशक्कत के बाद पुलिस रास्ता जाम खुलवाने में कामयाब

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *