परिवारवादी पार्टियां जनता का विकास रोक रहीं-नरेंद्र मोदी

एक दूसरे को देखना नहीं चाहते थे अब साथ

क्या कांग्रेस केवल मुस्लिम पुरुषों की पार्टी

आजमगढ़

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को सपा और बसपा को उनके ही गढ़ आजमगढ़ में ललकारा और कहा कि दलितों और पिछड़ों के वोट से सरकार बनाकर अपनी तिजोरियां भरी हैं। डा.अम्बेडकर और डा.लोहिया का नाम लेकर अपने परिवार के सदस्यों का भला किया। जो कभी एक दूसरे का मुंह नहीं देखना चाहते थे, वे अब एक हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि परिवारवादी पार्टियों जनता का विकास रोक रही हैं। उन्होंने कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि वह बताए कि क्या वे केवल मुस्लिम पुरुषों की पार्टी है। श्री मोदी ने आजमगढ़ से 14 किलोमीटर दूर मंदुरी हवाई पट्टी स्थित कार्यक्रम स्थल से पूर्वांचल एक्सप्रेस वे के निर्माण कार्य का शिलान्यास किया।


प्रधानमंत्री ने सपा-बसपा को निशाने पर लेते हुए कि जो कल तक एक-दूसरे को देखना नहीं चाहते थे, आज एक साथ हैं। सुबह-शाम मोदी-मोदी का जाप कर रहे हैं। मोदी का भय सता रहा है। इन्होंने आपके भरोसे को कुचलने का काम किया है। जनता और गरीब का फायदा करने के बजाय अपने और अपने परिवार के लोगों का भला किया है।  फिर इन दोनों के साथ कांग्रेस को भी समेटते हुए कहा कि ये परिवारवादी पार्टियां आपके विकास को रोकने में लगी हैं। इन्हें डर है कि दलित, वंचित, गरीब, किसान कहीं सतर्क हो गया तो इनकी दुकानें बंद हो जाएंगी।

उन्होंने कहा कि मोदी और योगी का परिवार तो आप जनता ही हैं। अपनी केन्द्र सरकार के चार साल की उपलब्धियों का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि सड़क, हवाई व अन्य क्षेत्रों में चार साल में इतना विकास हुआ, जितना आजादी के बाद नहीं हुआ था। उन्होंने कहा कि यूपी में पिछले चार सालों में नेशनल हाईवे का नेटवर्क दोगुना हो गया है। हमने अपनी सरकार के उस सपने को भी साकार किया है कि हवाई चप्पल पहनने वाला हवाई जहाज की यात्रा करे तो एक घंटे की यात्रा ढाई हजार में तय कर दी। अब ट्रेन में जितने एसी में यात्रा करते हैं, उतने ही लोग हवाई जहाज में यात्रा कर रहे हैं।

बोले-राहुल के बयान पर उन्हें कोई आश्चर्य नहीं हुआ। क्योंकि यूपीए सरकार में कांग्रेस के प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह ने भी कहा था कि देश के प्राकृतिक संसाधनों पर पहला अधिकार मुस्लिमों का ही है। मुस्लिमों की खासी तादाद वाले आजमगढ़ में कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के कांग्रेस को मुस्लिमों की पार्टी बताने वाले बयान को प्रधानमंत्री ने उल्लेख किया और कांग्रेस से पूछा कि वे मुस्लिम पुरूषों की ही पार्टी है या फिर मुस्लिम महिलाओं की भी पक्षधर है। तो फिर मुस्लिम महिलाओं को हक दिलाने के तीन तलाक बिल का संसद में समर्थन करे।

हमारी सरकार तीन तलाक पर संसद में बिल लाना चाहती है लेकिन कांग्रेस समेत अन्य परिवारवादी पार्टियां संसद चलने नहीं देती हैं। कांग्रेस ऐसे सारे विपक्षी दलों की पोल तो उनके तीन तलाक पर अपनाए गए रवैये ने खोल दी है। सरकार मुस्लिम महिलाओं के जीवन को सरल बनाना चाहती है लेकिन कांग्रेस व अन्य विरोधी दल मोदी का विरोध करने में मुस्लिम महिलाओं के जीवन को संकट में डाल रही हैं। मुस्लिम बहन बेटियों ने ही उन्हें अपनी व्यथा सुनाई थी और तीन तलाक पर कानून बनाने की मांग की थी। यहां तक कि कई मुस्लिम देशों ने भी तीन तलाक पर रोक लगाई हुई है। कांग्रेस समेत अन्य विरोधी दलों को मेरा सुझाव है कि चार-पांच दिन बाद शुरू होने वाली संसद से पहले उन मुस्लिम महिलाओं से मिल कर उनका दर्द जाने जो हलाला और तीन तलाक से परेशान होकर दर-दर की ठोकरें खा रही हैं। स्वयं वे भी ऐसे दलों के नेताओं को समझाने की कोशिश करेंगे। उन्होंने मुस्लिम महिलाओं को आश्वस्त किया कि सरकार तीन तलाक पर कानून बनाकर ही रहेगी।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *