होमगार्ड जवानों का भत्ता 375 रुपये से बढ़कर 500 रुपये

पूर्व में मजाक का पात्र था होमगार्ड विभाग- अनिल राजभर

लखनऊ

सीएम ने जिला होमगार्ड्स कार्यालय रायबरेली, जिला,मण्डल होमगार्ड्स कार्यालय बस्ती, केन्द्रीय प्रषिक्षण संस्थान, होमगार्ड मुख्यालय में नवनिर्मित बैरकों का भी लोकार्पण किया। वर्ष 2014-15 में सपा सरकार ने 75 रुपये भत्ते में बढ़ोत्तरी कर 375 रुपये किया था।  कैबिनेट मंत्री राजेश अग्रवाल व मुकुट बिहारी, डीजीपी ओपी सिंह के अलावा अपर मुख्य सचिव कुमार कमलेश, डीजी डॉ. सूर्य कुमार, आईजी शरत चन्द्र त्रिपाठी, डीआईजी एसके सिंह, कमाण्डेंट संजीव शुक्ला व विवेक सिंह, एसएचओ सुनील कुमार, जिला कमाण्डेंट कृपा शंकर पाण्डेय, ट्रैफिक इंचार्ज इंस्पेक्टर बीके सिंह समेत कई अधिकारी मौजूद रहे।

होमगार्ड मंत्री अनिल राजभर ने कहा कि बीजेपी सरकार से पहले होमगार्ड विभाग मजाक का पात्र था। सरकार अब शत प्रतिशत जवानों को ड्यूटी दे रही है। इंडो नेपाल बार्डर की सुरक्षा के लिए होमगार्ड जवानों के लगाने पर कार्य चल रहा है। शासन ने केन्द्र सरकार को प्रस्ताव भेजा है। मंजूरी मिलते ही ये जवान इंडो नेपाल बार्डर पर दूसरी फोर्स के जवानों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर ड्यूटी करेंगे। अपर मुख्य सचिव कुमार कमेलश और डीजी होमगार्ड डॉ. सूर्य कुमार शुक्ल ने कहा कि होमगार्ड विभाग को योगी सरकार में नई पहचान मिली है।  डॉ. शुक्ल ने कहा कि आगरा, इलाहाबाद व झांसी में प्रशिक्षण केन्द्र का निर्माण कराया जाएगा ताकि अधिकारियों व जवानों को प्रशिक्षण दिया जा सके।

समारोह में सीएम ने ड्यूटी के दौरान दिवंगत 27 होमगार्ड्स जवानों की पत्नियों को तीन-तीन लाख रुपये के चेक दिए। यह पहला मौका है जब कि सीएम ने मुख्यमंत्री कोष से यह मदद दी है। इनमें दिवंगत होमगार्ड जवान बृजमोहन, प्रवेन्द्र कुमार, बाबूलाल, अनुराग शर्मा, सुभाष चन्द्र उपाध्याय, छविलाल, सफात अली, जितेन्द्र कुमार, द्गिम्बर सिंह, रजपाल यादव, चरण सिंह, शंकर सिंह, मो. रफीक, वीरेन्द्र कुमार, रमानन्द सिंह, हरीओम त्यागी, शिवमूर्ति यादव, प्रेमचन्द्र, मुन्नीलाल, सुमन लता, रमाशंकर, गेंदालाल, दयानन्द, परमानन्द, ज्ञानपाल, महावीर सिंह, व छोटेलाल के नाम शामिल हैं। विभाग में इमानदार, अच्छी छवि वाले तथा सराहनीय कार्य करने वाले करीब 20 वैतनिक और अवैतनिक अधिकारियों व जवानों को सीएम मेडल देकर सम्मानित भी किया।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *